वीकेंड कर्फ्यू पर बाजारों में सन्नाटा, घरों में कैद रहे लोग

नई दिल्ली, एजेंसी। राजधानी दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू के पहले दिन दुकानें बंद दिखीं। कनॉट प्लेस, लाजपत नगर, खान मार्केट, हौज खास आदि बाजारों में शनिवार सुबह से ही कर्फ्यू का असर दिखा, सभी बाजारों में सन्नाटा पसरा था। वहीं दूसरे शनिवार की छुट्टी और बारिश की वजह से लोग अपने घरों में कैद रहे।

कॉलोनियों में परचून, दूध आदि जरूरी सामानों की दुकानें खुली नजर आईं। कई जगह सुबह के समय सैलून, पंक्चर व अन्य रोजमर्रा की दुकानें खुलीं थी, लेकिन बाद में पुलिसकर्मियों ने बंद करवा दिया। सुबह और देर शाम लोग घर के आसपास की दुकानों पर सामान लेते दिखे। मुख्य मार्गों पर लोग केवल निजी वाहन या सार्वजनिक वाहन में सफर करते दिखे, जबकि अंदरूनी मार्गों और गलियों में लोग पैदल आवाजाही करते दिखे।

नोएडा, बदरपुर, कापसहेड़ा, गाजीपुर बॉर्डरों पर बैरिकेड लगे थे। यहां से आते-जाते वाहनों की पुलिसकर्मी रैंडम जांच करते नजर आए। पुलिसकर्मी कर्फ्यू पास, पहचान पत्र और रेलवे व हवाईअड्डे आवाजाही करने वालों की टिकट की जांच कर रहे थे। कुछ स्थानों जैसे आनंद विहार बस अड्डा, कश्मीरी गेट बस अड्डा, रेलवे स्टेशनों के आसपास भीड़ दिखी, जिसे पुलिसकर्मी नियंत्रित कर रहे थे। इन स्थानों पर कोरोना जांच भी होती दिखी।

दिनभर में कई बार पुलिसकर्मी मोटरसाइकिल व अन्य वाहनों से प्रमुख मार्गों और गलियों में गश्त करते नजर आए। आईटीओ पर मिले ऑटो चालक रमेश कुमार के मुताबिक रोजाना सुबह 12 बजे तक वह 500 रुपये कमा लेते थे, लेकिन आज सुबह से उन्हें कोई सवारी नहीं मिली। वहीं कनॉट प्लेस में राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से निकले रेलवेकर्मी सुमित अवस्थी ने कहा कि संक्रमण से बचाव के लिए कर्फ्यू जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *